Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2022 · 1 min read

दोस्ती और कर्ण

दोस्ती और कर्ण
~~°~~°~~°
दोस्ती की लाज बचाने को कर्ण ,
कौरवों का साथ निभाया था।
सत्य क्या है जानता था कर्ण ,
पर असत्यपथ चलना स्वीकारा था।

अधर्म को मूक देखना ,
धर्महित कभी नहीं होता।
पर दोस्ती की खातिर कर्ण ,
कर्मफल को स्वीकारा था।

कृष्ण को वो अचंभित कर डाला,
टूटा जब रथ का पहिया था।
मारा गया जब निहत्था था कर्ण,
दोस्ती का कृतिमान रच डाला था।

सूर्यपुत्र कर्ण ऐसा दानी नही जग में,
कवच कुंडल भी दान कर डाला ।
दोस्ती की लाज बचाने की समय आई ,
अर्जित पुण्य भी अर्पित कर डाला ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि –०४ /११/२०२२
कार्तिक,शुक्ल पक्ष,एकादशी, शुक्रवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

4 Likes · 84 Views
You may also like:
पैसे की अहमियत
Chaudhary Sonal
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
माँ कालरात्रि
Vandana Namdev
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
✍️कुछ यादों के पन्ने✍️
'अशांत' शेखर
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
महिला दिवस दोहा नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐💐एक मुलाकात की बात ही तो है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटा तो
shabina. Naaz
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Writing Challenge- स्वास्थ्य (Health)
Sahityapedia
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
हमको तेरे ख़्याल ने
Dr fauzia Naseem shad
'हकीकत'
Godambari Negi
वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
जरूरत उसे भी थी
Abhishek Pandey Abhi
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
कविता
Mahendra Narayan
उलझन
Anamika Singh
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...