Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

याराना

जिंदगी के सफर में चलते चलते
कई अंजान लोगो से मिलते मिलते
किसी की रूह का ,
तुम्हारी रूह से जुड़ जाना
यही तो होता है यारो याराना।

बिन कुछ कहे तुम्हारे
उसका तुम्हारी हर बात जान जाना
बिन समझाए तुम्हारे
उसका सब कुछ समझ जाना
यही तो होता है यारा याराना।

बेवजह बिन कुछ सोचे
मदद का हाथ बढ़ाना
गलती हो जाने पर हजारों लफ्ज़ सुनना
फिर उन गलतियों को सुधार जाना
तुम्हे एक सही राह दिखलाना
यही तो होता है यारो याराना ।

उसका तुम्हारी जिंदगी में आना,
मानो तुम्हारी बंजर जिंदगी मैं
वसंत ऋतु में फूलो का खिल जाना
यही होता है यारो याराना ।

तुम्हारा तुम्हारे दोस्त को
करोड़ो की भीड़ में पहचान जाना
हर कदम में एक दूसरे का साथ निभाना
उसकी खुशी में तुम्हारा
और तुम्हारी खुशी में उसका खुश हो जाना
यही तो होता है यारो याराना।

उसका तुम्हारी हर बात को दिल से लगाना
कभी रूठना कभी मनाना
यही तो होता है यारो याराना ।

3 Likes · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
अतीत
अतीत
Neeraj Agarwal
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
#तेवरी
#तेवरी
*Author प्रणय प्रभात*
दरवाज़े
दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
हम
हम
Ankit Kumar
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...