Oct 8, 2016 · 1 min read

दोरे-हाजिर से डर रहा हूँ मैं,

दोरे-हाजिर, से डर रहा हूँ मै,
रोज बेमौत मर रहा हूँ मै।

ढूँढना है मुझे हुनर अपना,
खुद में गहरा उतर रहा हूँ मै।

ग़म में भी खुलके मुस्कुराया हूँ,
ऐसा’ दिलकश बशर रहा हूँ मै।

दुख मिले मुझको जिसकी जानिब से,
फिर उसे याद कर रहा हूं मै।

देखा हर सिम्त बेहयाई ही,
जिस तरफ भी गुजर रहा हूँ मै।

खार समझा गया “सिवा” लेकिन,
बनके खुशबू बिखर रहा हूँ मै।

सिवा संदीप गढ़वाल

208 Views
You may also like:
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
Crumbling Wall
Manisha Manjari
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
Loading...