Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

“देश भक्ति गीत”

हुआ देश आजाद तिरंगा लहर- लहर लहराता।
1. विष की बेला गई आज अमृत चहूं ओर बधाई।
बढ़ा आत्मनिर्भर पथ पर समृद्धि छटा छाई,
नए दौर में नई मंजिलों को छूकर मुस्काता।
हुआ देश……
2. तीन रंग का यह झंडा इसकी बलिदानी गाथा,
इसकी शान बढ़ी तो ऊंचा हुआ देश का माथा।
अमर अनगिनत बलिदानों से नवप्रभात या लाता
हुआ देश आजाद….
3. सदा गान हृदयो में हम जन गण मन को गाएंगे,
वंदनीय है भारत माता सदियों दोहराएंगे,
कभी नहीं चिर आजादी का टूटेगा फिर नाता।
हुआ देश आजाद तिरंगा…..

2 Likes · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूबरू।
रूबरू।
Taj Mohammad
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
बुद्ध
बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शिक्षक
शिक्षक
Mukesh Kumar Sonkar
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
विमला महरिया मौज
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
औलाद
औलाद
Surinder blackpen
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-189💐
💐प्रेम कौतुक-189💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
Loading...