Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 15, 2016 · 1 min read

देश प्रेम की सभी बच्चों में आग तो देखो!

देश प्रेम की सभी बच्चों में आग तो देखो।
देश प्रेम की कभी बजाकर राग तो देखो।।
हर तरफ लगी है होड़ सत्ता हथियाने की ।
कौन कर रहा शतरंजी गुणा भाग तो देखो।।
किस पर करे यकीं किस पर रखे भरोसा ।
आस्तीनों में पल रहे विषैले नाग तो देखो।।
देश सेवा के नाम पर सींक रही है रोटियाँ।
छीनने को हर डाल पर बैठे काग तो देखो।।
दूर नही चमन हो जाएगा हिन्दोस्ताँ अपना ।
वतन के प्रति ही जगाकर अनुराग तो देखो ।।
“दिनेश”

1 Comment · 232 Views
You may also like:
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
अरदास
Buddha Prakash
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
सुन्दर घर
Buddha Prakash
Loading...