Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

देव शयनी एकादशी

देवशयनी एकादशी पर्व है, अपने अंतस में जाने का
जप तप व्रत नियम संयम, जीवन में अपनाने का
एक निष्ठ हो योग ध्यान, इंद्रिय संयम करने का
सत चित आनंद स्वरूप, सच्चिदानंद में रमने का
पावस ऋतु के चतुर्मास, आवागमन में बाधक हैं
एक स्थान पर रुक कर, जप तप करते साधक हैं
योग ध्यान से वाह्य वृत्तियां, चित्त शांत करते हैं
सद वृत्तियां जगती हैं अंदर, दोष शमन करते हैं
देवशयनी एकादशी से, देवउठनी एकादशी तक चतुर्मास चलता है
जप तप नियम संयम का, शुभ फल मिलता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

6 Likes · 4 Comments · 87 Views
You may also like:
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Dr.Priya Soni Khare
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Loading...