देने वाला देकर कुछ कहता कहाँ है||

हर पहर, हर घड़ी रहता है जागता
बिना रुके बिना थके रहता है भागता
कुछ नही रखना है इसे अपने पास
सागर से, नदी से, तालाबो से माँगता
दिन रात सब कुछ लूटाकर, बादल
दाग काला दामन पर सहता यहाँ है||

देने वाला देकर कुछ कहता कहाँ है…

हर दिन की रोशनी रात का अंधेरा
जिसकी वजह से है सुबह का सवेरा
अगर रूठ जाए चन्द लम्हो के लिए
तम का विकराल हो जाएगा बसेरा
खुद जल के देता है चाँद को रोशनी
चाँद की तारीफ से पर जलता कहाँ है||

देने वाला देकर कुछ कहता कहाँ है…

मुखहोटा है चेहरे पर, वो चेहरा नही है
सांसो पर उसकी भी पहरा वही है
हर एक सर्कस मे बनता है, जोकर
वो मुस्कराता है जैसे घाव गहरा नही है
हसता है वो दूसरो को हसाने की खातिर
गम उसका आँखो से बहता कहाँ है||

देने वाला देकर कुछ कहता कहाँ है…

170 Views
You may also like:
एकाकीपन
Rekha Drolia
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
मां
Umender kumar
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
'बेदर्दी'
Godambari Negi
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
""वक्त ""
Ray's Gupta
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आप कौन है
Sandeep Albela
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सौगंध
Shriyansh Gupta
Loading...