Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2021 · 1 min read

देखो बरखा की रुत आयी।

देखो बरखा की रुत आयी।
रिमझिम रिमझिम बरस रही हैं, धरती पर अमृत की बूंदे।
कन कण इस कृतज्ञ धरा का पान करे इसका और झूमें।
इसका कोई जोड़ नहीं है जो सुगन्ध सोंधी लहराई।
देखो बरखा की रुत आयी।
नदी नालों में सरपट दौड़ें जलधारा बनके जलधावक।
वसुंधरा की अद्भुद वीणा छेड़ रहे चंचल जल शावक।
सिहरन व रोमांच है ऐसा पुलकित धरती ले अंगड़ाई।
देखो बरखा की रुत आयी।
बरखा संग देखो समीर भी करता कैसी चुहलबाजियां।
निर्मल होकर घूम रहा है भुला अंधड़ और आंधियां।
सब है शीतल और सुवासित पछुवा हो या हो पुरवाई।
देखो बरखा की रुत आयी।
काले मेघ हैं दैवी प्याले बरखा जैसे सुरा हो गयी।
आलिंगन सावन का पाकर कितनी कोमल धरा हो गयी।
तरसी हुई व्यथित धरती ने खुलकर अपनी प्यास बुझाई।
देखो बरखा की रुत आयी।

कुमारकलहन्स, 26,05,2021,बोइसर,पालघर।

11 Likes · 7 Comments · 266 Views
You may also like:
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
✍️वास्तविकता✍️
'अशांत' शेखर
दिल ने
Anamika Singh
हमलोग
Dr.sima
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
भारत की जमीं
DESH RAJ
दर्द की कलम।
Taj Mohammad
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
विधि के दो वरदान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️बारिश की आस✍️
'अशांत' शेखर
फ़ौजी
Lohit Tamta
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
*#आलू_जिंदाबाद (#हास्य_व्यंग्य)*
Ravi Prakash
पिता
Surabhi bharati
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
✍️जन्नतो की तालिब है..!✍️
'अशांत' शेखर
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
✍️कसम खुदा की..!✍️
'अशांत' शेखर
Loading...