Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2016 · 1 min read

देखा है सहरा और– समंदरों को भी…………………….

देखा है सहरा और– समंदरों को भी
इन नज़रों ने देखा है –उन नज़रों को भी

मोहब्बत करके —देखो मंज़रों को भी
नज़र अंदाज़ ना करना –मशवरों को भी

धूप हवा बरसातें— किस पर नहीं होती
देखा है मैनें टूटा —-पत्थरों को भी

मिले थे जिनसे -आदमी आम समझ के हम
वो छोड़ गए पीछे– बाज़ीगारों को भी

आजा के महफ़िल– तारों से सज़ा ली है
हसरत को पुकार ले और– ख़तरों को भी

तूफ़ां से बचकर—जायें तो कहाँ जायें
अक्सर मिलता है मौक़ा– खंडरों को भी

उल्फ़त को रोते —ख़ाली खोकले रिश्ते
हाये लग गये दीमक ‘सरु’- घरों को भी

320 Views
You may also like:
तुमको पाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
*"वो दिन जो हम साथ गुजारे थे"*
Shashi kala vyas
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
मशगूलियत।
Taj Mohammad
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
कहाँ मिलेंगे तेरे क़दमों के निशाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
"सृष्टि की श्रृंखला"
Dr Meenu Poonia
देख रहा था
Mahendra Narayan
तेरी बाहों के घेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
बदल गया मेरा मासूम दिल
Anamika Singh
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
माँ की याद
Meenakshi Nagar
छुपकर
Dr.sima
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी आशिक से
Shekhar Chandra Mitra
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
कुछ ना रहा
Nitu Sah
I am a book
Buddha Prakash
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
पर्यावरण के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️ताकत और डर✍️
'अशांत' शेखर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
Loading...