Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2021 · 1 min read

देखने वाले कहने लगे ——- स्नेह गीत

तूने देखा, मैंने देखा, दिल में कुछ कुछ होने लगा।
****देखने वाले कहने लगे, इन्हें प्रेम का रोग लगा।।****
कभी तू जागी कभी मै जागा,
दिल अपना यहां वहां भगा।।
****देखने वाले कहने लगे इन्हे प्रेम का रोग लगा।।****
(१)
आकर्षण और प्रतिकर्षण
का,
मेल वह ,कितना निराला था।
आंखो का था मेल यह अपना,
सपना दोनों ने पाला था।।
होने लगा था सजनी अब तो, हम दोनों का रतजगा।
****देखने वाले कहने लगे,इन्हे प्रेम का रोग लगा।।****
(२)
तेरी मेरी ,मेरी तेरी
मुलाकाते कुछ रोज चली।
घर परिजन को खबर लगी,
बाते उनमें होने लगी।
अपने बच्चो की अब देखो,
चर्चा चल रही गली गली।।
दो परिजन अब बन गए थे समधी,रिश्तों का जो रंग लगा।।
****देखने वाले कहने लगे,इन्हे प्रेम का रोग लगा।।****

**शेष गीत बाद में—————!
राजेश व्यास अनुनय

2 Likes · 137 Views
You may also like:
कविता - नई परिभाषा
Mahendra Narayan
चलो आग-ए-इश्क का दरिया पार करते है।
Taj Mohammad
गर बुरा लगता हूं।
Taj Mohammad
बरसात
प्रकाश राम
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr.Alpa Amin
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
✍️शान से रहते है✍️
"अशांत" शेखर
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
राह के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
युवता
Vijaykumar Gundal
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
होली का संदेश
Anamika Singh
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr.Alpa Amin
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️मौत✍️✍️
"अशांत" शेखर
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
मजहबे इस्लाम नही सिखाता।
Taj Mohammad
Loading...