Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2016 · 1 min read

दृग बाण से उर भेद कर

*गीतिका*
दृग बाण से उर भेद कर पलकें झुका कर चल दिये।
फिर से हृदय में प्रेम का इक ज्वार ला कर चल दिये।
मधुमास करता प्रेम का है अंकुरण किसने कहा!
वह ही स्वयं मधुमास का जलवा दिखा कर चल दिये।
मदमत्त करने के लिए क्यों हो सहारा वारुणी।
उन्मत्त करने नैन की मदिरा पिला कर चल दिये।
पुष्प दे मधुराग भँवरा पी प्रफुल्लित हो रहा।
हो प्रेम में ऐसा समन्वय ये बता कर चल दिये।
बढती उषा को चूमने यों इष्टियों में अग्नियाँ।
मुख उर्मियों से प्रेम-पावक उर बढा कर चल दिये।
संतप्त उर को रति सुधा की एक धारा ही बहुत।
वो स्पर्श से ‘इषुप्रिय’ सहस्त्रों ही बहा कर चल दिये।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

1 Like · 169 Views
You may also like:
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
*राधा और माधव का रास था ( घनाक्षरी )*
Ravi Prakash
जरूरी कहां कुल का दिया कुल को रोशन करें
कवि दीपक बवेजा
नव गीत
Sushila Joshi
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
एक शहीद की महबूबा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुंदेली दोहा- बिषय -अबेर (देर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रावण का तुम अंश मिटा दो,
कृष्णकांत गुर्जर
✍️✍️प्रेम की राह पर-67✍️✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️वो जहर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देखो
Dr.Priya Soni Khare
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
Fear From Freedom
AJAY AMITABH SUMAN
माँ का आँचल
Nishant prakhar
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
Loading...