दृग बाण से उर भेद कर

*गीतिका*
दृग बाण से उर भेद कर पलकें झुका कर चल दिये।
फिर से हृदय में प्रेम का इक ज्वार ला कर चल दिये।
मधुमास करता प्रेम का है अंकुरण किसने कहा!
वह ही स्वयं मधुमास का जलवा दिखा कर चल दिये।
मदमत्त करने के लिए क्यों हो सहारा वारुणी।
उन्मत्त करने नैन की मदिरा पिला कर चल दिये।
पुष्प दे मधुराग भँवरा पी प्रफुल्लित हो रहा।
हो प्रेम में ऐसा समन्वय ये बता कर चल दिये।
बढती उषा को चूमने यों इष्टियों में अग्नियाँ।
मुख उर्मियों से प्रेम-पावक उर बढा कर चल दिये।
संतप्त उर को रति सुधा की एक धारा ही बहुत।
वो स्पर्श से ‘इषुप्रिय’ सहस्त्रों ही बहा कर चल दिये।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

1 Like · 100 Views
You may also like:
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
Little baby !
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खींच तान
Saraswati Bajpai
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
इस शहर में
Shriyansh Gupta
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
Loading...