Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2022 · 1 min read

*दूरंदेशी*

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

एक अबोध बालक
* ⭕️दू रंदेशी⭕️
विचारों के आकार नित्
जगाते संवाद अनोखे
किस को बताऊँ
किस से छुपाऊँ
जागते नयनों के
ये सपन अनूठे
तुम से छुप पाना
है अब मुश्किल
तुम से छुपा कर
के क्या लेना
सखी तुम्ही हो
राग द्वेष का मेरे
एक अनोखा ख्वाव अधुरा

Language: Hindi
1 Like · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
कद्रदान
कद्रदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
*रंग बदलते रहते मन के,कभी हास्य है-रोना है (मुक्तक)*
*रंग बदलते रहते मन के,कभी हास्य है-रोना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
2329. पूर्णिका
2329. पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
इजाज़त
इजाज़त
डी. के. निवातिया
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
Kavita Chouhan
सुभाष चंद्र बोस
सुभाष चंद्र बोस
Shekhar Chandra Mitra
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
Shashi kala vyas
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-243💐
💐प्रेम कौतुक-243💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
Loading...