Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !

दुलहिन के मुह देखके दादू दूर किहिन महतारी !
बाप बिचारा मरय रात दिन तबहू पाबय गारी !!

बूटी बिटिया रोटी पोबय खाय ले दादू भईया !
भउजी टाग पसारे सोबय पार करा प्रभु नईया !!

मीठ मीठ बोलिआय न दादू साढ़ू सरहज सारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

रोज बिहन्ने दाई बाबा एक कफ चाय का तरसा !
गाँजा, दारू, सुट्टा, सोटय लइके दउड़य फरसा !!

खुसुर खुसुर खुसुराय दुपहरी चढ़िके महल अटारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

भूलि गये दादू अब देखा कसके अम्मा पालिस !
नौ माह तक पेट फुलाए पेट के लाने बागिस !!

जेका पैदा किहिस अम्मबा अब ओहिन से हारी !
दुलहिन के मुह देख के दादू दूर किहिन महतारी !!

================================
मौलिक कवि आशीष जुगनू 09200573071

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 548 Views
You may also like:
किताब
Seema 'Tu hai na'
✍️एक नन्हे बच्चे इंदर मेघवाल की मौत पर...!
'अशांत' शेखर
जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है, मेरे...
Manisha Manjari
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जीवन का गीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ सिद्धिदात्री
Vandana Namdev
उम्मीद
Sushil chauhan
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दस्तूर
Rashmi Sanjay
प्रलय गीत
मनोज कर्ण
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
'बेवजह'
Godambari Negi
गँउआ
श्रीहर्ष आचार्य
*सबसे प्रेम कर अनुकूल कर लेना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सच बोलो
shabina. Naaz
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
दया करो भगवान
Buddha Prakash
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
Loading...