Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 2 min read

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35

किसी व्यक्ति के जीवन का लक्ष्य जब मृत्यु के निकट पहुँच कर भी पूर्ण हो जाता है तब उसकी मृत्यु उसे ज्यादा परेशान नहीं कर पाती। अश्वत्थामा भी दुर्योधनको एक शांति पूर्ण मृत्यु प्रदान करने की ईक्छा से उसको स्वयं द्वारा पांडवों के मारे जाने का समाचार सुनाता है, जिसके लिए दुर्योधन ने आजीवन कामना की थी । युद्ध भूमि में घायल पड़ा दुर्योधन जब अश्वत्थामा के मुख से पांडवों के हनन की बात सुनता है तो उसके मानस पटल पर सहसा अतित के वो दृश्य उभरने लगते हैं जो गुरु द्रोणाचार्य के वध होने के वक्त घटित हुए थे। अब आगे क्या हुआ , देखते हैं मेरी दीर्घ कविता “दुर्योधन कब मिट पाया” के इस 35 वें भाग में।
============
जिस मानव का सिद्ध मनोरथ
मृत्यु क्षण होता संभव,
उस मानव का हृदय आप्त ना
हो होता ये असंभव।
============
ना जाने किस भाँति आखिर
पूण्य रचा इन हाथों ने ,
कर्ण भीष्म न कर पाए वो
कर्म रचा निज हाथों ने।
===========
मुझको भी विश्वास ना होता
है पर सच बतलाता हूँ,
जिसकी चिर प्रतीक्षा थी
तुमको वो बात सुनाता हूँ।
===========
तुमसे पहले तेरे शत्रु का
शीश विच्छेदन कर धड़ से,
कटे मुंड अर्पित करता हूँ,
अधम शत्रु का निजकर से।
===========
सुन मित्र की बातें दुर्योधन के
मुख पे मुस्कान फली,
मनो वांछित सुनने को हीं
किंचित उसमें थी जान बची।
===========
कैसी भी थी काया उसकी
कैसी भी वो जीर्ण बची ,
पर मन के अंतर तम में तो
अभिलाषा कुछ क्षीण बची।
==========
क्या कर सकता अश्वत्थामा
कुरु कुंवर को ज्ञात रहा,
कैसे कैसे अस्त्र शस्त्र
अश्वत्थामा को प्राप्त रहा।
=========
उभर चले थे मानस पट पे
दृश्य कैसे ना मन माने ,
गुरु द्रोण के वधने में क्या
धर्म हुआ था सब जाने।
=========
लाख बुरा था दुर्योधन पर
सच पे ना अभिमान रहा ,
धर्मराज सा सच पे सच में
ना इतना सम्मान रहा।
=========
जो छलता था दुर्योधन पर
ताल थोक कर हँस हँस के,
छला गया छलिया के जाले
में उस दिन फँस फँस के।
=========
अजय अमिताभ सुमन
सर्वाधिकार सुरक्षित

1 Like · 1 Comment · 73 Views
You may also like:
कुरान की आयत।
Taj Mohammad
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Satpallm1978 Chauhan
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
मेरे पापा
Anamika Singh
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
घुसमट
"अशांत" शेखर
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
बेटी....
Chandra Prakash Patel
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
हिरण
Buddha Prakash
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...