Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2021 · 1 min read

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-8

शठ शकुनि से कुटिल मंत्रणा करके हरने को तैयार,
दुर्योधन समझा था उनको एक अकेला नर लाचार।
उसकी नजरों में ब्रज नंदन राज दंड के अधिकारी,
भीष्म नहीं कुछ कह पाते थे उनकी अपनी लाचारी।

धृतराष्ट्र विदुर जो समझाते थे उनका अविश्वास किया,
दु:शासन का मन भयकम्पित उसको यूँ विश्वास दिया।
जिन हाथों संसार फला था उन हाथों को हरने को,
दुर्योधन ने सोच लिया था ब्रज नन्दन को धरने को।

नभपे लिखने को लकीर कोई लिखना चाहे क्या होगा?
हरि पे धरने को जंजीर कोई रखना चाहे क्या होगा?
दीप्ति जीत हीं जाती है वन चाहे कितना भी घन हो,
शक्ति विजय हीं होता है चाहे कितना भी घन तम हो।

दुर्योधन जड़ बुद्धि हरि से लड़ कर अब पछताता था,
रौद्र कृष्ण का रूप देखकर लोमड़ सा भरमाता था।
राज कक्ष में कृष्ण खड़े जैसे कोई पर्वत अड़ा हुआ,
दुर्योधन का व्यूहबद्ध दल बल अत्यधिक डरा हुआ।

देहओज से अनल फला आँखों से ज्योति विकट चली,
जल जाते सारे शूर कक्ष में ऐसी द्युति निकट जली।
प्रत्यक्ष हो गए अन्धक तत्क्षण वृशिवंश के सारे वीर,
वसुगण सारे उर उपस्थित ले निज बाहू तरकश तीर।

1 Like · 2 Comments · 214 Views
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
पिता
Surabhi bharati
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
जीवन
vikash Kumar Nidan
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr.Alpa Amin
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
घुतिवान- ए- मनुज
AMRESH KUMAR VERMA
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विधवा की प्रार्थना
Tnmy R Shandily
सूरज काका
Dr Archana Gupta
*हर घर तिरंगा (गीतिका)*
Ravi Prakash
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
वक़्त
Mahendra Rai
मृत्यु
Anamika Singh
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
पसीना।
Taj Mohammad
✍️✍️रब्त✍️✍️
'अशांत' शेखर
तूने किया हलाल
Jatashankar Prajapati
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
भूख
Varun Singh Gautam
इंतजार
Anamika Singh
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मन
Pakhi Jain
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...