Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 20, 2017 · 1 min read

दुर्गाजी का आराधना

संकटहरणी, मंगलकरणी, शक्तिदायिनी माँ
हर पल तेरा स्मरण करें मुझे दर्शन दो माँ ।
तू ही चंडीगढ़, तू ही ज्वाला, तू ही दुर्गा माँ
भक्तों के दु:ख दूर करती दया का सागर माँ ।।

नवरातों में धरा पर आती ले सुहाना रूप
घर- घर होते मंगलाचार देती दर्शन भरपूर ।
शक्ति की दाता है तू , तू ही है जगमाता
तेरा ध्यान करें हम हर पल तुझमें ही मन रमता ।।

सारे जग में होती प्रतिष्ठा नये निराले रूप
भक्त जन प्रसन्न हैं होते देख तेरा स्वरूप ।
कुछ न चाहूँ मैं माता बस इतना मुझे वर दे
नि: स्वार्थ करूँसेवा तेरी शक्ति अपार दे दे ।।

अवगुण मेरे दूर करो माँ जग के सब कष्ट हरो माँ जय जग जननी विपदा हरणी ब्रह्मचारिणी माँ ।
मैं मूरख हूँ खलकामी कल्याण मेरा कर दो माँ
शक्ति विधाता तू जग माता वरद हस्त सर पर रख दो ।।

शत शत वंदन तुझे हैं करते दुष्टों का संहार करो
कृपा करो बच्चों पर हे माँ नमन मेरा स्वीकार करो ।।

** मंजु बंसल **
जोरहाट

( मौलिक व प्रकाशनार्थ )

142 Views
You may also like:
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
Green Trees
Buddha Prakash
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
हम सब एक है।
Anamika Singh
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
बहुमत
मनोज कर्ण
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...