Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

=-=-=-दुनिया के रंग – =-=-=

मतलब की है यह दुनिया, चले दो रंगी चाल।
जब तक आपसे स्वार्थ है, आप हो बेमिसाल।।
आप हो बेमिसाल, कोई न आप से प्यारा।
ज्यों ही मकसद पूर्ण हुआ, फिर कैसा भाईचारा।।
कहे रंजना देखो हरदम, ये बात है गौरतलब।
स्वार्थ के हैं रिश्ते कोई, नाता न जोड़े बे मतलब।।

रंजना माथुर दिनांक 19/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

365 Views
You may also like:
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कशमकश
Anamika Singh
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Ram Krishan Rastogi
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...