Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2022 · 1 min read

दुनिया की रीति

इस जग में पैदा लेना
फिर यही भव में मिटना
पाँचों तत्वों में हमारा तन
मिलकर विलीन हो जाता
इतना समय के लिए यहां
रिपु, वैरी भी बन जाता यहां
प्रतिदिन करोड़ों की संख्या में
लोग जग में आते- जाते रहते
सत कोई भी मनुष्य न चाहता
कि हमारा हो जाए निधन यहां
पांच तत्वों मिलकर करता निर्माण
इसी में मिल जाना दुनिया की रीति।

जब कभी होता द्वंद्व, समर
तो हम दोनों दलों के मनुज
मिलकर जाते विद्वान के पार्श्व
लड़ाई-झगड़े का अंत खोजने
वो शांति से सब जान बूझ के
दोनों दलों के साक्षियों को
बुलाकर पूछताछ करते
पूछ ताछ करने के पश्चात
जिसको जितना रहती त्रुटि
उसको उतना मिलता दंड
वक्त पे कोई भी निज न अपना
न देता मेल कोई दुनिया की रीति।

91 Views
You may also like:
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
इश्क की आग।
Taj Mohammad
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
आज अब्र भी कबसे बरस रहा है।
Taj Mohammad
कातिल बन गए है।
Taj Mohammad
✍️अपने .......
Vaishnavi Gupta
O brave soldiers.
Taj Mohammad
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Apology
Mahesh Ojha
है आया पन्द्रह अगस्त है।।
पाण्डेय चिदानन्द
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
✍️✍️ठोकर✍️✍️
'अशांत' शेखर
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
हमारी हस्ती।
Taj Mohammad
दौर।
Taj Mohammad
तुम्हारी जुदाई ने।
Taj Mohammad
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
जीवन की सौगात "पापा"
Dr.Alpa Amin
ऐसे ना करें कुर्बानी हम
gurudeenverma198
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
Loading...