Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 1 min read

दुआ

रात ढली और सुबह जगी
भर गयी रौशनी कण कण में ,
खुश्बू से लजाते फूलों सा
सुख हो सबके जीवन में ,
सूरज की जलती काया से
उजाले में ढलती दुआ कोई ,
मंज़िल का एक निशां बनके
भर देती जोश नया मन में ,

1 Like · 42 Views
You may also like:
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा की परी...
Sapna K S
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
याद आते हैं।
Taj Mohammad
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
भ्रम है पाला
Dr. Alpa H. Amin
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Vats
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार "कर्ण"
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...