Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दीये की बाती

..दीये की बाती

सूरज सा तपता है
चंदा सा जगता है
बच्चों की खातिर
हर पल मरता है ।।

मौन अभिव्यक्ति
आंखें पढ़ लेती है
फिसले जो रेत तो
मुट्ठी दब जाती है।।

झर जाएं पत्ते मगर
तना खड़ा रहता है
आएगा फिर सावन
सोच अड़ा रहता है।।

दिन में सफर है
रात में स्वप्न हैं
सुखी घर के लिए
हर पल जतन हैं।।

वेदना उलाहने ताने
मोरपंख सजे तराने
मकान,दुकान दफ्तर
सिर झुकाता अक्सर।।

क्या, क्यों, किसलिए
प्रश्नचिह्न परिभाषा है
इस पिता की देखो
अंतस अभिलाषा है।।

क्यों नहीं किया, क्या
किया हमारे लिए..?
वो चुपचाप सुनता है
स्वयं को ही छलता है।।

अशक्त, अव्यक्त, असमर्थ
निरुत्तर, निस्तेज,ये अर्थ
समिधा जीवन यज्ञ की
समदृश पितृ सब व्यर्थ।।

उड़ान, मचान, ओ लाठी
ऐनक, ये हाथ में बैसाखी
मंद-मंद मुस्काती चाल
मुखिया सीने में भूचाल।

पंख कटे पांखी….ओ..दीये की बाती..

सूर्यकांत द्विवेदी

3 Likes · 6 Comments · 138 Views
You may also like:
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
वफ़ा ना निभाई।
Taj Mohammad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
जंग
shabina. Naaz
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
बेचैनियाँ फिर कभी
Dr fauzia Naseem shad
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
महबूब
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पानी का दर्द
Anamika Singh
पुनर्विवाह
Anamika Singh
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
अदब से।
Taj Mohammad
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
★प्रकृति: तथा तत्वबोधः★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
नारियल
Buddha Prakash
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
पढ़े लिखे खाली घूमे,अनपढ़ करे राज (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
Loading...