Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2022 · 1 min read

दीप सब सद्भाव का मिलकर जलाएं

दीप सब सद्भाव का मिलकर जलाएं
प्रेम से संसार को हम जगमगाएं
घर सजाएं रिश्तों की रंगोलियों से
इस तरह दीपावली हर दिन मनाएं

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 58 Views
You may also like:
ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
श्री राधा जन्माष्टमी
बिमल तिवारी आत्मबोध
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
Calling with smartphone !
Buddha Prakash
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
आंसू सच्चे या झूठे
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
मैं हिन्दी हिंदुस्तान की
gurudeenverma198
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम गीत
Harshvardhan "आवारा"
राम दीन की शादी
Satish Srijan
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
लोरी
Shekhar Chandra Mitra
*चार दिन की सब माया 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
■ दोहा / रात गई, बात गई...
*Author प्रणय प्रभात*
मिला हमें माँ सा नज़राना
Dr Archana Gupta
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
✍️अच्छे दिन✍️
'अशांत' शेखर
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
घर
Sushil chauhan
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरे हर एहसास को
Dr fauzia Naseem shad
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने...
Manisha Manjari
राष्ट्रकवि दिनकर दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...