Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दीप-परम्परा

” दीप-परम्परा ”
“”””””””””””””””‘”‘””””

सदियों पूर्व
तात्कालिक परिस्थितियों में
बने थे कुछ….
नियंत्रक नियम !
कुछ आवश्यक कार्यों का
नित्य पालन बना था !
परम्परा का आधार !!
तब
परम्पराऐं……
वैज्ञानिक थी,
वैधानिक थी ,
नैसर्गिक थी ,
मगर ! आज !
आज…….
युग बदला है !
सोच बदली है !
जीवन जीने का तरीका ,
पहनावे का सलीका ,
आदमी का नजरिया ,
आदमी की सोच !
सब बदला है –
और आज !
परम्परा !
महज बोझ है !
बंधन है !
असहज बेड़ी है !
तोड़ने की फिराक में हैं सब…..
क्यों कि ?
इंसान को आजादी चाहिए !
यह उनकी अपनी ,
स्वतंत्रता का हनन है !
स्वच्छन्दता का हनन है !
“दीप-परम्परा” तो !
बुजुर्आपन है !
संकीर्णता है !
मशीनी जीवन को ,
इनकी दरकार नहीं रही !
आज !
इनका कोई मूल्य नहीं ?
अति आधुनिक मानव ,
नित नई परम्परा बनाता है……
नशे की !
जुए की !
चोरी की !
पाप की !
विलासिता की !
भ्रष्टाचार की !
एकाकीपन की |
छलावे की !
मानवता के अन्त की !
और सृष्टि के अन्त की !!

“””””””””””””””””””””””””””””
डॉ०प्रदीप कुमार “दीप”
“””””””””””””””””””””””””””””

168 Views
You may also like:
मैं बेटी हूँ।
अनामिका सिंह
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
✍️✍️रंग✍️✍️
"अशांत" शेखर
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
"अशांत" शेखर
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
"अशांत" शेखर
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️✍️मौत✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...