Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#25 Trending Author
Jun 18, 2022 · 1 min read

दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।

अंधकार के रास्तों पर,,,
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो…!!
आने वाली नस्लों को यूं ही,,,
सीख तुम देते रहो…!!

हे वीर सैनिक तुम हो भारत का गौरव,,,
तिरंगे के गीत सदा गाते रहो…!!
देश की सरहद पर फैली तन्हाई में,,,
एक दुसरे के मीत तुम बनते रहो…!!

वीर सपूत हो भारत माता के,,,
पताका जीत की तुम सदा,,,
सरहद पर लहराते रहो…!!

हे सैनिक,
तुम सब हो अटल,अमर,अजर,,,
हृदयों में बनकर देश भक्ति का प्रतीक,,,
तुम सदा ज्योति सा जलते रहो…!!

तुम वीरों के कारण ही,
दुश्मन झीर निद्रा में सोते है,,,
अखंडता है भारत की तुमसे,,,
पग पग धीर तुम,
जीत की ओर अग्रसर रहो…!!

तेरी गौरव गाथा के,,,
गीत सदा हम गायेंगें…!!
तेरी आन,बान,शान में,,,
हम बलि-बलि जायेंगें…!!

तेरे ही कारण है देश में व्याप्त,,,
शांति,चैन और अमन…!!
हे सैनिक तुमको है ह्रदय से,,,
कोटि-कोटि नमन…!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 78 Views
You may also like:
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
हमनें नज़रें अदब से झुका ली।
Taj Mohammad
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
महाराणा प्रताप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
*डॉक्टर भूपति शर्मा जोशी की कुंडलियाँ : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
आज नज़रे।
Taj Mohammad
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
'अशांत' शेखर
कहता है ये दिल मेरा,
Vaishnavi Gupta
Loading...