Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दीपावली

घने अंधेरा को काटेगे
अमा निशा मे प्रकाश बांटेगे
दीपो ने यह ठाना है
दीपावली मनाना है
नही अंधेरा राज चलेगा
तम का जोर अब नही चलेगा
दीप पंक्ति जलाना है
दीपावली मनाना है
अंतर तम भी दूर करेगे
अब तो मन मालिन्य कटेगे
श्वेत चांदनी लाना है
दीपावली मनाना है
पैसे धुए मे नही उडाए
देशी दिये ही सभी जलाए
प्रदूषण मुक्त बनाना है
दीपावली मनाना है
धन का सदुपयोग करेगे
निर्धन तक खुशी पहुचाना
देशी दिये जलाना है
दीपावली मनाना है
खुशी बढेगी बिना पटाखे
गरीबो को आज निवाले
ये सब काम निराला है
दीपावली मनाना है
कही अंधेरा नही बचेगा
विन्ध्य तक प्रकाश पहुचेगा
अब हम सबने ठाना है
दीपावली मनाना है

389 Views
You may also like:
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
देश के नौजवानों
Anamika Singh
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
यादें
kausikigupta315
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Santoshi devi
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरे साथी!
Anamika Singh
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
आदर्श पिता
Sahil
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...