Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दिव्य तुम अवतार हो

?दिव्य तुम अवतार हो ?

श्वेताम्बरा माँ,करे वीणा,ज्ञान का आधार हो !
मरालवाहिनी अम्ब मेरी,दिव्य तुम अवतार हो !

कोना-कोना वसुन्धरा का,अचरजों से है भरा।
हैै तेरी अनुकम्पा मानव,व्योम भेदे जा रहा ।
मातेश्वरी हो तव कृपा तो,बेड़ा सिन्धु पार हो !
मरालवाहिनी अम्ब मेरी,दिव्य तुम अवतार हो !!

हृदय हो मेरा श्वेत निश्चल,कण्ठ में वीणा बजे
नीर-क्षीर-विवेकी मनस हो,सीख वाहन से मिले !
माँ आचरण में हर मनुज के,बिम्ब तव साकार हो !
मरालवाहिनी अम्ब मेरी,दिव्य तुम अवतार हो !!

बालक हूँ मैं अबोध माता,प्रार्थना मेरी सुनो
हो जाऊँ न माँ दूर पथ से,हाथ मेरा थाम लो
वरदायिनी हे शारदा माँ,भक्त पर उपकार हो !
मरालवाहिनी अम्ब मेरी,दिव्य तुम अवतार हो !!
—✍हेमा तिवारी भट्ट ✍

191 Views
You may also like:
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कशमकश
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...