Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दिवाली और मेरे शेर

दिवाली और मेरे शेर

दिवाली का पर्व है फिर अँधेरे में हम क्यों रहें
चलो हम अपने अहम् को जलाकर रौशनी कर लें

*************************************

दिवाली का पर्व है अँधेरा अब नहीं भाता मुझे
आज फिर मैंने तेरी याद के दीपक जला लिए

दीपाबली शुभ हो

283 Views
You may also like:
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
भरोसा नहीं रहा।
Anamika Singh
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
✍️इत्तिहाद✍️
"अशांत" शेखर
दया करो भगवान
Buddha Prakash
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपराधी कौन
Manu Vashistha
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी का राज
Anamika Singh
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
आ जाओ राम।
Anamika Singh
Loading...