Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दिल से दिल तक

दिल से दिल तक,
मित्र से मित्र तक
सुप्रभात से
स्वप्निल रात्रि तक
“तुम ही तुम” !

2 Likes · 145 Views
You may also like:
एहतराम करते है।
Taj Mohammad
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
तुमसे अगर प्यार अगर सच्चा न होता
gurudeenverma198
कलम नही लिख पाया
Anamika Singh
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️सिर्फ…✍️
'अशांत' शेखर
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ समझ में
Dr fauzia Naseem shad
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
योग
DrKavi Nirmal
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
तिरंगा
Pakhi Jain
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
Loading...