Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2016 · 1 min read

*दिल में सबके प्यार हो*

दिल में सबके प्यार हो !
कोई ना तकरार हो !!
वैर का ना हो निशाँ!
खुशियों की भरमार हो!!
ग़म की ना दरकार हो!
जीना ना दुश्वार हो!!
पतझड़ ना छाए कभी!
हर तरफ़ ही बहार हों!!
फूल ही बस फूल हों !
ना कहीँ पर ख़ार हों!!
दिल में सबके प्यार हो……

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 189 Views
You may also like:
'बंधन'
Godambari Negi
सोच
kausikigupta315
कळस
Shyam Sundar Subramanian
“हिमांचल दर्शन “
DrLakshman Jha Parimal
मैं सरकारी बाबू हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जिजीविषा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भाग्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौसला-1
डॉ. शिव लहरी
बचपन की साईकिल
Buddha Prakash
डोर सांसों की
Dr fauzia Naseem shad
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुमसे कहते रहे,भुला दो मुझको
Kaur Surinder
शेर
pradeep nagarwal
✍️बदल रहा है कुछ कुछ✍️
'अशांत' शेखर
मैं डरती हूं।
Dr.sima
आंखों की लाली
शिव प्रताप लोधी
■ ग़ज़ल / रिसालों की जगह...
*Author प्रणय प्रभात*
गीत
Kanchan Khanna
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
आहट को पहचान...
मनोज कर्ण
शेर
Rajiv Vishal
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
ख़्वाब
Gaurav Sharma
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
*** सागर की लहरें........!!! ***
VEDANTA PATEL
समय के संग परिवर्तन
AMRESH KUMAR VERMA
" मँगलमय नव-वर्ष 2023 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
Loading...