Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*दिल में सबके प्यार हो*

दिल में सबके प्यार हो !
कोई ना तकरार हो !!
वैर का ना हो निशाँ!
खुशियों की भरमार हो!!
ग़म की ना दरकार हो!
जीना ना दुश्वार हो!!
पतझड़ ना छाए कभी!
हर तरफ़ ही बहार हों!!
फूल ही बस फूल हों !
ना कहीँ पर ख़ार हों!!
दिल में सबके प्यार हो……

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

1 Comment · 150 Views
You may also like:
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
If we could be together again...
Abhineet Mittal
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
💔💔...broken
Palak Shreya
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
धन्य है पिता
Anil Kumar
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...