Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,

दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
उजला उजला उसका वेश होना चाहिए !

रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
सुबह सुबह सूरज सा तेज होना चाहिए !!

कवि दीपक सरल

2 Likes · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर कसौटी पर उसकी मैं खरा उतर जाऊं.........
हर कसौटी पर उसकी मैं खरा उतर जाऊं.........
कवि दीपक बवेजा
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
"हँसता था पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
बन जाने दो बच्चा मुझको फिर से
gurudeenverma198
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
Rohit Kaushik
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
Manisha Manjari
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
हमें रामायण
हमें रामायण
Dr.Rashmi Mishra
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
It is not necessary to be beautiful for beauty,
It is not necessary to be beautiful for beauty,
Sakshi Tripathi
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
पातुक
पातुक
शांतिलाल सोनी
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
श्याम सिंह बिष्ट
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ बोली की ग़ज़ल .....
■ बोली की ग़ज़ल .....
*Author प्रणय प्रभात*
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
तुम्हें आभास तो होगा
तुम्हें आभास तो होगा
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु
मृत्यु
अमित कुमार
Chehre se sundar nhi per,
Chehre se sundar nhi per,
Vandana maurya
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
निगल रही
निगल रही
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
Loading...