Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

दिल तो दिल है,समझाने कौन आएगा।

दिल तो दिल है इसको समझाने कौन आएगा
रिश्तों में पड़ी गांठो को सुलझाने कौन आयेगा।

महफिल में यूँ तो लोग बहुत खुश नज़र आये,
जो शख्स नाराज़ है उसे मनाने कौन आएगा।

दिल की चोटें कभी चैन से रहने न देंगी,
पहले पूछ लो मरहम लगाने कौन आएगा।

मोड़ हज़ारो मिलेंगे तुम्हे मिलेंगे कई चौराहे,
कौनसी राह जाना है ये बताने कौन आयेगा।

नींद से भरी आँखें है रात भी हो ही गयी है,
थपकियाँ दिला दिला के सुलाने कौन आएगा ।

झरोखों से झांकती वो आँखे ही तो वजह है,
वरना ये शक्ल इस शहर को दिखाने कौन आएगा ।

शख्स जो चाबी बनाता है उसका ठिकाना दूर है
बंद पड़े दरवाजे का ताला, खुलवाने कौन आएगा।

गर चल पड़े हो संग तो मुड़ मुड़ कर ना देखो,
मैं अकेला ही साथी हूँ तो बुलाने कौन आएगा।

सौरभ पुरोहित……☺

2 Comments · 167 Views
You may also like:
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
मुझको तुम्हारा क्या भरोसा
gurudeenverma198
घोर अंधेरा ................
Kavita Chouhan
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आइए डिजिटल उपवास की ओर बढ़ते हैं!
Deepak Kohli
जड़त्व
Shyam Sundar Subramanian
■ मौजूदा हाल....
*प्रणय प्रभात*
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
याद तू मुझको
Dr fauzia Naseem shad
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
पहला प्यार
Sushil chauhan
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
'अशांत' शेखर
मेरी कीमत
Seema gupta ( bloger) Gupta
नारियल
Buddha Prakash
*बोर हो गए घर पर रहकर (बाल कविता/ गीतिका )*
Ravi Prakash
पता नहीं
shabina. Naaz
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
चरित्रहीन
Shekhar Chandra Mitra
क्षमा
Saraswati Bajpai
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...