Oct 6, 2016 · 1 min read

दिल को दिल से मिलने दो/मंदीप

दिल को दिल से मिलने दो,
रूमानी मौहबत एक होने दो।

यु पलखो को मत झुकाओं
निगाहों से निगाहें मिलने दो।

दूर क्यों जाते हो हम से
हम को तो पास आने दो।

चाहत है तुम से कितनी
एक बार हम को जताने दो।

उड़ा मेरा दिल आसमान में,
उस को निचे मत आने दो।

“मंदीप” को प्यार से एक बार देखो,
पास आओ अब सासों को छुने दो।

मंदीपसाई

101 Views
You may also like:
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
बुलबुला
मनोज शर्मा
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
इश्क
goutam shaw
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
हसद
Alok Saxena
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...