Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

दिल की हक़ीक़त

दिल की हक़ीक़त लिखते कहां हैं।
टूटे ना जब तक बिख़रते कहां हैं।।

खुद को समेटे हैं खुद के ही अंदर।
खुद से भी बाहर निकलते कहां हैं।।

तुम्हें आईना हम बना ही चुके हैं।
देखे बिना हम संवरते कहां हैं।।

थोड़े से ज़िद्दी, थोड़े से पागल ।
हम जैसे शायर मिलते कहां हैं।।

बिछड़े जो तुमसे बिछड़ने ना देना।
बिछड़ते हैं जो वो मिलते कहां हैं।।

दिल की हक़ीक़त लिखते कहां हैं।
टूटे ना जब तक बिख़रते कहां हैं।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
2 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
Kavita Chouhan
परिवार होना चाहिए
परिवार होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
करन ''केसरा''
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
तिरंगा
तिरंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"तहजीब"
Dr. Kishan tandon kranti
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Sakshi Tripathi
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-445💐
💐प्रेम कौतुक-445💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
■ ज्यादा कौन लिखे?
■ ज्यादा कौन लिखे?
*Author प्रणय प्रभात*
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
Loading...