Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 7, 2016 · 1 min read

दिल की धड़कन बढ़ने लगी/मंदीप

बातो में बात अब मिलने लगी,
सासों में सांस अब गुलने लगी।

जब भी लूँ हाथो में हाथ तुमारा,
दिल की दड़कने बढ़ने लगी।

लूँ देख मै तेरे योवन को,
आँखे मेरी अब झुकने लगी।

ख्वाबो में ना तुम आया करों ,
अब नींद मेरी अब उडने लगी।

क्यों हो गया तुम से इतना लगाव,
चाहतें मेरी खुदी से बोलने लगी।

अब ना होना हम से कभी दूर,
ये सोच कर “मंदीप्” की धड़कनें थमने लगी।

मंदीपसाई

93 Views
You may also like:
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
टूटे बहुत है हम
D.k Math
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
मील का पत्थर
Anamika Singh
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
✍️मिसाले✍️
"अशांत" शेखर
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
Loading...