Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 12, 2022 · 1 min read

दिले यार ना मिलते हैं।

इश्क तो है उनके दिलों में,,,
पर ज़माने में दिले यार ना मिलते है…

जज्बात तो है उन दोनोँ में,,,
पर उनके कोई ख्याल ना मिलते है…

कहाँ पूंछे वो अपने सवाल,,,
कहीं पर उनको जवाब ना मिलते है…

आशिको को कहते है खराब,,,
पर हमको तो वो मजेदार लगते है…

शायद बीमार है वो ज्यादा ही,,,
देखो तो वो कितना बेहाल लगते है…

तुम उनकी बातों पे ना जाना,,,
वह हमेशा रस्सी का सांप करते है…

घर मे नही है कुछ खाने को,,,
बातों में जैसे शहर के नवाब लगते है…

वक्त पर ले लिया करो हर चीज,,,
वरना बाद में फिर तो हाथ मलते है…

नौ नगद हमेशा अच्छे होते है,,,
बड़ी मुश्किल से तेरह उधार मिलते है…

ये मजदूर है बहुत ही मक्कार,,,
गर चले जाओ तो काम ना करते है…

उन्होंने जन्नत में बना लिये घर,,,
जो अपना सब गरीबों के नाम करते है…

पूंछकर उनको शर्मिन्दा ना करो,,,
वो तो जिंदगीं में बस आराम करते है…

शायद वो है बहुत गरीब,,,
तभी उनके बच्चे भी काम करते है…

बन कर खुद में बड़े निकम्मे,,,
देखो तो शेरो-शायरी ताज करते है…

ताज मोहम्मद
लखनऊ

61 Views
You may also like:
सच
अंजनीत निज्जर
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
परी
Alok Saxena
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
एकाकीपन
Rekha Drolia
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
"अशांत" शेखर
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
हसद
Alok Saxena
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पिता
KAMAL THAKUR
मनमीत मेरे
Dr.sima
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
Loading...