Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

दिलरुबा जे रहे

देखते देखते का से का हो गईल
दिलरुबा जे रहे बेवफा हो गईल
सोचले रहनी का अउरी का हो गईल
दिलरुबा जे रहे बेवफा हो गईल…
(१)
चोट किस्मत के खा-खाके घायल बनल
पहिले गजरा रहे फेरू पायल बनल
गीतिया प्यार के गावे चलल जे रहे
आखिर शेखरा काहे ऊ पागल बनल
दोष दोसरा के देहला से का फायदा
अपने दिलवा जब बेहया हो गईल…
(२)
जेके नीमन कहनी ओके बाऊर लागल
जेके अमृत देहनी ओके माहुर लागल
एने बर्बाद भईनी हम उनका खातिर
ओने दोसरा के माथे माऊर चढल
केहू करबो करो तअ अइसे में का
जब इहे दुनिया के कायदा हो गईल…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#Lyricist #songs #गीतकार

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
1 Like · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
मियाद
मियाद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
VINOD CHAUHAN
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विरह वेदना फूल तितली
विरह वेदना फूल तितली
SATPAL CHAUHAN
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
किसी दिन
किसी दिन
shabina. Naaz
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पितृ दिवस पर....
पितृ दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...