Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 11, 2022 · 2 min read

दिल,एक छोटी माँ..!

दिल,एक छोटी माँ..! ❤️
( छंद मुक्त काव्य )
~~°~~°~~°
ये दिल क्या है..?
एक मुठ्ठी भर मांसपेशियों का उछल कूद,
या कोई जीवंत रिश्ता ।
गौर से सोचो यदि,
तो ये इस तन की एक छोटी मांँ सी है।
जरा सी गड़बड़ हो जाए इसके ताल और लय ,
तो झटके देने लगते इसकी दोनों भुजाएं ,
अलिंद और निलय ।
फिर तो बिलख-बिलख तन करता है अदावत ,
ये सब जानते हुए भी,तो हम नहीं करते ,
अपने दिलरुपी माँ की हिफाजत ।
देखो तुम्हारे इस मुट्ठी भर छोटी सी माँ ,
तुम्हारा कितना ख्याल रखती ।
चौबीसों घंटे रक्त से गंदगी हटाती है वो ,
पवनदेव से वायु मांग
शोणित प्रवाह से उसे ,
तेरे शरीर के रग रग में पहुँचाती है ।
सफाईकर्मी की तरह वो ,
अतिरिक्त जल और गंदगी को सही जगह पहुँचाकर ,
उसके सही निस्सरण की व्यवस्था करती है ।
बेचैन रहती है ,
असंख्य कोशिकाओं के पोषण हेतु हर समय ।
लेकिन कुछ बातें पसंद नहीं है उसे ,
नफरत,ईर्ष्या और क्रोध ।
इसके आवेश में आते ही ,
अनियंत्रित होकर धड़कने लगती है यह।
सौम्य शांत स्वभाव हो बालरुप तन का ,
सिर्फ इतनी सी आरजू लिए ,
जीवन भर बिना रुके काम करती ।
लेकिन इस छोटी मांँ में एक बड़ी कमी भी है ,
ये जान ले तो जरा ।
ये कभी ब्रेक लेकर,दोबारा काम पर नहीं लौटती।
रुठ जाती है,तो कोई इसे मना नहीं सकता।
और फिर वह अपनी गोद से,तुम्हें हटाती भी नहीं।
अपनी गोद में सुलाये ही चली जाती ,
अनंत यात्रा के लिए ।
बहुत प्यार जो करती तुमसे ,
जुदाई कैसे सहन हो भला ।
इसलिए इहलोक परलोक ,
दोनों में तेरा साथ नहीं छोड़ती ।
तो चलो आज से कसम खा ले ,
इस छोटी माँ को असमय रुठने न दे।
ख्याल रखें हर समय ,
स्वस्थ आहार,स्वस्थ विचार ,
और स्वस्थ अपनी छोटी माँ ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ११ /०४ /२०२२
चैत,शुक्ल पक्ष,दशमी ,सोमवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

4 Likes · 244 Views
You may also like:
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपातकाल
Shriyansh Gupta
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
अजीब कशमकश
Anjana Jain
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
Loading...