Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2021 · 1 min read

दिया तले अँधेरा ,

मेरे घर में है दिया तले अँधेरा ,
तेरे घर में भी है दिया तले अँधेरा ,
परिवार में राजनीती -ये दोहरे चेहरे ,
क्या नहीं है ये दिया तले अँधेरा !

ये झूठे और स्वार्थ में लिप्त रिश्ते ,
ये अपनापन जताते -मीठी पर झूटी बातें बोलते रिश्ते ,
इस कलयुग में पैसे को ही धर्म मानते रिश्ते ,
स्वार्थ के लिए एक छत के नीचे रहते रिश्ते ,
क्या नहीं है ये दिया तले अँधेरा !!

चुनाव के समय पाँव पड़ते ये नेता ,
गरीब -लाचार से इंसानियत दिखाते नेता ,
चुनाव जीतने पर जनता को अपने क़दमों पर बिठाते नेता ,
क्या नहीं है ये दिया तले अँधेरा !!!

धर्म के नाम पर डराते और लूटते ये धर्म के ठेकेदार ,
ईश्वर का अवतार लिए लाशों का सौदा करते ये सफेदपोश इंसान ,
आपकी मजबूरी में आपके कपडे उतारते ये खाकी और काले कोट वाले इंसान ,
क्या नहीं है ये दिया तले अँधेरा !!!!!

कहाँ नहीं है दिया तले अँधेरा ,
हाँ -उस सतगुरु के दर पर ,
उस इष्ट की चौखट पर ,
केवल वहीँ है उजियारा -प्रकाश -राह ,
वहां नहीं है दिया तले अँधेरा …!

मौलिक/स्वरचित
नाम-विकास शर्मा
जनपद- जयपुर /
राज्य का नाम-राजस्थान
(यहाँ किसी व्यक्ति विशेष -धर्म विशेष -जाती विशेष या कार्य विशेष पर कोई प्रहार नहीं है ,इस कलयुग में जो चरितार्थ हो रहा है वो सत्य मात्र है )

1 Like · 106 Views
You may also like:
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
धड़कनों की सदा।
Taj Mohammad
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उनका लिखा कलाम सा लगता है।
Taj Mohammad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
Colourful Balloons
Buddha Prakash
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल से मदद
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैने देखा है
Anamika Singh
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कमाल ये है...✍️
"अशांत" शेखर
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr.Alpa Amin
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
मारे ऊँची धाँक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
* उदासी *
Dr.Alpa Amin
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
एक प्रश्न
Aditya Prakash
Loading...