Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

दिन बड़ा बनाने में

दिन बड़ा बनाने में
!
साहस जुटाना होता दिल कड़ा बनाने में,
मिटटी को मथ-मथ कर, घड़ा बनाने में,
यूँ ही नहीं आती है बहारें इस जिंदगी में
रात खर्चनी पड़ती है दिन बड़ा बनाने में !!
!
डी के निवातिया

2 Likes · 4 Comments · 170 Views
You may also like:
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
शत शत नमन उन सपूतों को
gurudeenverma198
जब हवाएँ तेरे शहर से होकर आती हैं।
Manisha Manjari
मौसम की गर्मी
Seema 'Tu hai na'
आदर्श पिता
Sahil
# मंजिल के राही
Rahul yadav
" राज "
Dr Meenu Poonia
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
वाह नेताजी वाह
Shekhar Chandra Mitra
Daily Writing Challenge : जल
'अशांत' शेखर
गोवर्धन पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#अतिथि_कब_जाओगे??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अन्नदाता किसान कैसे हो
नूरफातिमा खातून नूरी
A poor little girl
Buddha Prakash
*मय या मयखाना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंख ऊपर न उठी...
Shivkumar Bilagrami
चलो अब गांवों की ओर
Ram Krishan Rastogi
अंतर्द्वंद्व
मनोज कर्ण
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
💐💐ज्ञानस्य अभिमानं नरकेषु प्रवेशक:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे गुरू मेरा अभिमान
Anamika Singh
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एउटा मधेशी ठिटो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*तीन माह की प्यारी गुड़िया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्याम घनाक्षरी
सूर्यकांत द्विवेदी
'विश्व जनसंख्या दिवस'
Godambari Negi
Loading...