Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 20, 2022 · 1 min read

दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल धर्मशाला रामपुर में श्री राम सत्

दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल धर्मशाला रामपुर में श्री राम सत्संग मंडल द्वारा श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल के मुख्य यजमान की भूमिका में आयोजित रामकथा गोंडा से पधारे श्री राधेश्याम द्विवेदी रामायणी जी के श्रीमुख से प्रस्तुत की गई । तबले और बाजे के साथ यह संगीतमय रामकथा सभी के हृदयों पर छा गई । प्रस्तुत है इसी सफल आयोजन को साधुवाद देते हुए एक कविता( कुंडलिया):-
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
धारा रामकथा बही , वक्ता राधेश्याम
तर जाता संसार से, भजता जो श्रीराम
भजता जो श्रीराम, मधुर गायी .चौपाई
तबले बाजे संग , मधुरता अद्भुत आई
कहते रवि कविराय, रामपुर हर्षित सारा
मंत्रमुग्ध अविराम, रामरस बहती धारा
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””‘””””
रचयिता: रवि प्रकाश,, बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश ,मोबाइल 99 97 61 5451

46 Views
You may also like:
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इन्सान
Seema Tuhaina
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️कांटने लगते है घर✍️
'अशांत' शेखर
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
'अशांत' शेखर
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
*#महापुरुषों_के_पत्र* (संस्मरण)
Ravi Prakash
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
जितना भी पाया है।
Taj Mohammad
पिता
Ray's Gupta
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
माई री [भाग२]
Anamika Singh
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
Loading...