Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 22, 2022 · 1 min read

दिनभर मेहनत कर धूप में पसीने से नहाता हैं

दिनभर मेहनत कर धूप में पसीने से नहाता हैं,
तब जाके वो “कृष्ण”
घरवालों के लिए दो वक़्त की रोटी का जुगाड कर पाता हैं!
– कृष्ण सिंह

1 Like · 8 Views
You may also like:
रफ्तार
Anamika Singh
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
Nurse An Angel
Buddha Prakash
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
Loading...