Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 29, 2016 · 1 min read

गीतिका /गजल

परीक्षा जिन्दगी की, हल को बारम्बार पढ़ लेना
अनूठी जिन्दगी है यह, सही आधार पढ़ लेना |१

कभी ऊपर कभी नीचे, कभी चलती समानांतर
बिना घबराये तुम धीरज से, जीवन सार पढ़ लेना |२

नहीं है तोड़ना आसां ये, जीवन भर के रिश्तों को
कभी कुछ वक्त हो तो तुम, नयन में प्यार पढ़ लेना |३

अगर महफ़िल में जाओ, तुम कभी तो याद यह रखना
वहाँ कुछ नामवर शायर के, कुछ अशयार पढ़ लेना |४

ज़माना है बहुत स्वार्थी, यहाँ सब मतलबी दुनिया
न हो विश्वास तुमको तो, कभी अखबार पढ़ लेना |५

कहूँ क्या अब यहाँ दिल की, कथायें सब अभी तुमको
बनेगी सुर्खियाँ जब तुम, खबर दो चार पढ़ लेना |६

© कालीपद ‘प्रसाद’

163 Views
You may also like:
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H. Amin
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
नमन!
Shriyansh Gupta
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
अधुरा सपना
Anamika Singh
प्रेम की किताब
DESH RAJ
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H. Amin
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
मन
शेख़ जाफ़र खान
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
Loading...