Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 16, 2016 · 1 min read

दाना पानी के सिलसिले

दाना-पानी के सिलसिले परदेश में ले जाते
बच्चे माँ-बाप से बिछड़, अपनी जीविका कमाते।
बूढ़ो की अपनी मजबूरी नीरस जीवन जीते
एक समय लाचार हो, शरण वृद्धाश्रम पाते।

1 Comment · 154 Views
You may also like:
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मौसम की तरह तुम बदल गए हो।
Taj Mohammad
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
तुम...
Sapna K S
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
हमारी धरती
Anamika Singh
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
Loading...