Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दहेज प्रथा

****** दहेज प्रथा ******
*********************

दहेज प्रथा घिनौना पाप है,
कन्याओं हेतु अभिशाप है।

जो बेटी चढ़े दाज की बलि,
माँ बाप का बढ़े रक्तताप है।

जब पैदा होती है बिटिया,
बोझ से रहता उच्चताप है।

कहते सुता होती है पराई,
पूर्ण घर संसार की माप है।

नोच डालते हैं जब भेड़िये,
जग का सबसे बड़ा पाप है।

नहीं रहती घर और घाट की,
जीवन का सर्वोत्तम श्राप है।

मिटाओ दहेज की बुरी रीत,
मनसीरत कहे यह संताप है।
*********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

200 Views
You may also like:
मौत
Alok Saxena
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
लेखनी
Anamika Singh
✍️वो खूबसूरती✍️
'अशांत' शेखर
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
✍️पत्थर-दिल✍️
'अशांत' शेखर
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
✍️ये भी अज़ीब है✍️
'अशांत' शेखर
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
यह इश्क है।
Taj Mohammad
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
सब कुछ ही छोड़ा है तुझ पर।
Taj Mohammad
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
स्थानांतरण
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
बेचने वाले
shabina. Naaz
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
मेरा साया
Anamika Singh
ताला-चाबी
Buddha Prakash
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
जब भी सोचेंगे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...