Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दहेज की आग

ज्वालामुखी सी सुलगती रहती है ये दहेज की आग,
हमने कानून बना दिए हैं सरकार अलापे यही राग।

पर दहेज की आग का दर्द एक पिता ही जानता है,
बेटी के सुख की चिंता में जो कब से से रहा है जाग।

सब कुछ बेच दिया उसने बेटी की खुशियों के लिए,
फिर भी पल पल खुशियों को डसता दहेज का नाग।

बेटे वाले खुश हो लेते हैं दहेज को बटोरकर पल भर,
भूल जाते हैं बेटा बेचा है उन्होंने, कैसे धुलेगा ये दाग।

मारी जाती हैं ना जाने कितनी बेटियाँ दहेज के कारण,
मार कर दूसरे की बेटी कहते पीछा छूटा थी वो निर्भाग।

कैसे भला होगा इन दहेज के लोभियों का खुद सोचो,
जब बीतेगी इनके साथ निकलेगा इनके मुँह से झाग।

कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, सोच बदलनी होगी,
घटिया सोच के कारण खुद से ही रहे हैं लोग भाग।

घर के आँगन में लगी तुलसी, गृहलक्ष्मी होती है बहु,
जागरूकता फैलाने का सुलक्षणा को लगा है वैराग।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

442 Views
You may also like:
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...