Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दशहरा मनाने का क्या फायदा?

आज अच्छाई नतमस्तक है बुराई के आगे,
तो विजयादशमी मनाने का क्या फायदा।
भले हैं दबे और बुरे हैं उठे,
तो रावण जलाने का क्या फायदा।
न सुधरे कोई चाहे जितनी हो कोशिश,
रामलीला दिखाने का क्या फायदा।
इस कलयुग में झूठ हीं आगे बढा,
तो रामायण पढाने से क्या फायदा।1।

बनो उत्तम सत्यवादी न्यायप्रिय,
सीख लो जिंदगी जीने का कायदा।
झूठ की राह को तुम त्यागो अभी,
करो खुद से सच्चाई का वायदा।
बडों का आदर, करो छोटों से प्यार,
डुबते को साहिल पर लाओ सदा।
बुराई से लडो, हराओ उसे,
तब दशहरा मनाने का हो फायदा।2।

1 Like · 368 Views
You may also like:
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
देश के नौजवानों
Anamika Singh
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
If we could be together again...
Abhineet Mittal
रफ्तार
Anamika Singh
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
माँ की याद
Meenakshi Nagar
Loading...