Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2022 · 2 min read

दलबदलू के दल बदलने पर शोक न कर (हास्य व्यंग्य)

*दलबदलू के दल बदलने पर शोक न कर (हास्य व्यंग्य)*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
दल बदलू ने दल बदल लिया । यह तो होना ही था ! कब तक वह तेरे दल में रहता ! अब उसका शोक न कर ! उसे जाना था ,चला गया । जैसे वह पुराना दल छोड़कर तेरे दल में आया था ,वैसे ही तेरा दल छोड़कर दूसरे दल में चला गया ।
दलबदल राजनीति का शाश्वत नियम है। जिसे दलबदल करना होता है ,वह चुनाव से ठीक पहले दल अवश्य बदलता है अन्यथा उसका दिल पाँच साल तक भटकता रहता है और उसे मुक्ति नहीं मिलती । दल बदलू नेता आज तक किसका हुआ है ? वह बाजार की कॉलगर्ल है जिसे जहां अधिक मूल्य मिलता दिखता है ,चली जाती है । आज इसकी है, कल उसकी है । परसों वह किसी और की हो जाएगी। दल बदलू और दल के रिश्ते के मूल स्वरूप को पहचानो ! वह पति-पत्नी की तरह नहीं हैं, जो सात जन्मों तक साथ निभाएंगे। उनका लिव-इन-रिलेशनशिप रहता है । कल था,आज समाप्त हो गया। इसमें आश्चर्यजनक कुछ भी नहीं है ।
दलबदलू नेता दल को एक चोले की तरह पहनता है । पाँच साल ओढ़ा, फिर फेंक दिया । फिर दूसरा पहन लिया। उसके लिए क्या पार्टी ? क्या पार्टी का झंडा ? क्या टोपी का रंग ? क्या गले में पड़ा पटका ? यह सब ऊपरी दिखावे की वस्तुएं हैं । भीतर से वह चंचल ,चलायमान दल बदलू ही है । उसकी आस्था को पहचानो । समझो उसके मनोविज्ञान को । उसका हृदय कुर्सी में निवास करता है । खाओ पियो और मौज करो ,उसकी संस्कृति है। शब्द और भाषण उसका व्यवसाय है ।.उससे जब चाहे जिस दल की प्रशंसा के भाषण दिलवा लो । वह जिस दल में जाएगा ,उसकी आराधना ऐसे करेगा जैसे सात जन्मो तक उसे वहीं पर निवास करना है । लेकिन पाँच साल भी नहीं बीतेंगे कि वह दल छोड़ देगा।
जो दल बदलना चाहता है उसे मत रोको । जाने दो । रोका तो वह उस समय जाएगा जब उसका जाना और भी बुरा होगा। वह अधिक हानि पहुंचा कर जाएगा। जो आना चाहता है ,उसकी इच्छा के मूल को पहचानो । दल बदलू तुम्हारे किस काम का ? वह अपना दल बदल कर तुम्हारे दल में आएगा और फिर तुम्हारा दल बदल के किसी और दल में चला जाएगा । तुम्हारी शाश्वत पूँजी तुम्हारा निष्ठावान कार्यकर्ता ही है । दल बदलू आएंगे और चले जाएंगे । कार्यकर्ता कभी दल छोड़कर नहीं जाता ।केवल उसकी ही वैचारिक निष्ठा दल के साथ होती है।
————————————————–
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

777 Views

Books from Ravi Prakash

You may also like:
अहोई आठे की कथा (कविता)
अहोई आठे की कथा (कविता)
Ravi Prakash
"ज़िंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक़ जीया करते...
Mukul Koushik
असर होता है इन दुआओं में।
असर होता है इन दुआओं में।
Taj Mohammad
संगति
संगति
Buddha Prakash
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
कवि दीपक बवेजा
भोजपुरी भाषा
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
बदल गए
बदल गए
विनोद सिल्ला
कहां हैं हम
कहां हैं हम
Dr fauzia Naseem shad
गौरवशाली राष्ट्र का गौरवशाली गणतांत्रिक इतिहास
गौरवशाली राष्ट्र का गौरवशाली गणतांत्रिक इतिहास
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कलाकार
कलाकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
बचपना
बचपना
Satish Srijan
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
दीपावली :दोहे
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिल्लत की ज़िंदगी
जिल्लत की ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
याद
याद
Sushil chauhan
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
Writing Challenge- कला (Art)
Writing Challenge- कला (Art)
Sahityapedia
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी ये सुन जाती है, और दर्द लिए कराहे तो, चीखों को अनसुना कर मुँह फेर जाती है।
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी...
Manisha Manjari
नवगीत
नवगीत
Mahendra Narayan
💐साधनम् -नित्यं सत्यं च💐
💐साधनम् -नित्यं सत्यं च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐसे इश्क निभाया हमने
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
Loading...