Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दर्पण!

दर्पण…………

इंसान पत्थर को भी पानी कर सकता है।
ख़ुद जाल बुन, ख़ुद ही फस्ता है।।

जिसमें हैं जवाला, धारा सा वो बेहता है।
पारस हैं वो, तप -तप के सोना बनता है।।
जल नहीं, बुलबुलों का स्वप्न देख।
फिर उन्हीं बुलबुलों से खेलता है।।

समंदर मे डूब ज्ञान संचित करता है,
दीवाना है मस्ती मे आगे बड़ता है।
हज़ारो अहसास लीन है उसमे,
मस्तक पर तेज़, नैनो मे सैलाब लिये चलता है।।

मनुष्य अगर एक बार ठान ले तो,
पृथ्वी – आकाश एक कर सकता है।
ख़ुद जाल बुन, ख़ुद ही फस्ता है।।

भागीरथी गंगा धरा तलपे लाया था ,
रावण ने हिमालय पर्वत हिलाया था।
सब समय और बुद्धि का खेल है,
अहंकार मे ही सब कुछ गवाया था।।

साम – दाम – दण्ड – भेद के चलते,
महाभारत तक का मुख दिखलाया।
एक मात्र अर्जुन के चलते,
सबने गीता का ज्ञान हैं पाया।।

समय का पहिया न कभी रुकता है।
इंसान पत्थर को भी पानी कर सकता है।।

इंसान पत्थर को भी पानी कर सकता है।
ख़ुद जाल बुन, ख़ुद ही फस्ता है।।

सेजल गोस्वामी
New Delhi,
northwest delhi.

4 Likes · 2 Comments · 121 Views
You may also like:
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
ईद
Khushboo Khatoon
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
एक संकल्प
Aditya Prakash
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
मील का पत्थर
Anamika Singh
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
हसद
Alok Saxena
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
Love Heart
Buddha Prakash
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Buddha Prakash
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हालात
Surabhi bharati
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
Loading...