Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 7, 2017 · 1 min read

~~~~~दर्पण~~~~~

===दर्पण===
सीखिए आईने से
हिम्मत रखना।
नाजुक इतना कि
टूट जाता है एक पत्थर से ही।
लेकिन सच्चाई की तस्वीर दिखाने में
डरता नहीं।
झूठ कभी बोलने की कोशिश
करता नहीं।।

——–रंजना माथुर दिनांक 21/07 /2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

428 Views
You may also like:
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
बहुमत
मनोज कर्ण
कशमकश
Anamika Singh
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार
Anamika Singh
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
Loading...