Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2022 · 1 min read

दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं

नैन अपने यूँ ही न खोये हैं ।
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये ।।
जागी आंखें गवाही दे देंगी ।
नींद अपनी कभी न सोये हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
6 Likes · 86 Views
You may also like:
चरित्रहीन
Shekhar Chandra Mitra
इंतजार से बेहतर है कोशिश करना
कवि दीपक बवेजा
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
बहुत कुछ कहना है
Ankita
*चिड़िया रानी कैसे तुम उड़ती हो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जय अग्रसेन महाराज
Dr Archana Gupta
यह दुनियाँ
Anamika Singh
एक हक़ीक़त
shabina. Naaz
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
हिंदी का वर्तमान स्वरूप एवं विकास की संभावना
Shyam Sundar Subramanian
ख़ुशी
Alok Saxena
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
'अशांत' शेखर
'राम-राज'
पंकज कुमार कर्ण
✍️हुए बेखबर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बचपन
मनोज कर्ण
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
■ व्यंग्य / एक न्यूज़ : जो उड़ा दी फ्यूज..
*प्रणय प्रभात*
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
वो कोरोना का क़हर भी याद आएगा
kumar Deepak "Mani"
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की...
Manisha Manjari
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
आईना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
हरि चंदन बन जाये मिट्टी
Dr. Sunita Singh
Loading...