Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 10, 2022 · 1 min read

दर्द भरे गीत

ये दर्द ना होता
ये शाम ना होती
काश कोई जिस्मोजान ना होती
पिंजरे में कैदी पंछी को आराम ना होती।
ये दर्द ना होता
ये शाम ना होती
लफ्जों में बयां ना कर पाऊं
दर्द अब रिसता है दिल रोता है।
ये दर्द ना होता
ये शाम ना होती
किसको दिखा है, बिना आँसू का रोना
वो बिखरना दिल का हर कोना सुना
अप्रीतम (बेजोड़पन) का खोना
वो जल जल कर अब जीना
ये दर्द ना होता
ये शाम ना होती
रूह निकल जाती है तन जल जाती है।
जीवन संग बिछड़ जाना है।
एक दिन खो जाना है।
ये दर्द ना होता
ये शाम ना होती_डॉ . सीमा कुमारी,
‌‌‌‌‌‌ बिहार,भागलपुर,दिनांक-20-3-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं

3 Likes · 1 Comment · 130 Views
You may also like:
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
✍️मी फिनिक्स...!✍️
"अशांत" शेखर
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
पिता
Saraswati Bajpai
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
✍️पत्थर-दिल✍️
"अशांत" शेखर
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
Loading...